Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 : कोरोना से अनाथ बच्चों को हर महीने 1500 रूपये 

Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 | कोरोना से अनाथ बच्चों को हर महीने 1500 रूपये 

दोस्तों (Children Orphaned by Covid) कोरोना से माता पिता की मृत्यु के बाद कोरोना से अनाथ बच्चों को हर माह बच्चों को मिलेंगे 1500 रूपये। दोस्तों माननीय मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने यह कहा है। यह राशि बच्चों को 18 वर्ष के होने तक मिलेगी।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी कि साथ ही कहा ऐसे बच्चों की देखरेख और पढ़ाई को लेकर भी अहम फैसले किए गए हैं।

Bihar Bal Sahayata Yojana 2021
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वैसे बच्चे बच्चियां जिनके माता-पिता दोनों की मृत्यु हो गई है तथा जिनमें कम से कम एक की मृत्यु कोरोना वायरस से हुई है उनको बाल सहायता योजना के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा 18 वर्ष होने तक 15 सौ रुपए प्रतिमाह दिया जाएगा साथ ही जिन अनाथ बच्चे बच्चियों के अभिभावक नहीं है उनकी देखभाल बालगृह में की जाएगी वही ऐसी अनाथ बच्चियों का कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में प्राथमिकता पर नामांकन कराया जाएगा।




दोस्तों बाल सहायता योजना के तहत (Children Orphaned by Covid) कोरोना वायरस से अनाथ हुए बच्चों को 15 सो रुपए मासिक की सहायता दी जाएगी तथा अन्य कारणों जैसे दुर्घटना या आत्महत्या जैसे कारणों से अनाथ हुए बच्चों को अलग से चिन्हित किया गया है और इन्हें दूसरी योजना के तहत सहायता दी जाएगी।

 

Bihar Bal Sahayata Yojana 2021

Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 अनाथ हुए बच्चों की संख्या कितनी है?

दोस्तों समाज कल्याण विभाग के अनुसार बिहार में कोरोना संक्रमण से माता-पिता दोनों को खोने वाले कोरोना वायरस से अनाथ हुए बच्चों की संख्या करीब 100 के आसपास है जबकि विभिन्न कारणों से अनाथ हुए बच्चों की संख्या लगभग 1332 है।

एपीएल और बीपीएल का अंतर नहीं।

दोस्तों सहायता कोरोना वायरस से अनाथ हुए बच्चों को दी जाएगी जिसने corona की वजह से अपने माता पिता खो दिए है। समाज कल्याण विभाग के अनुसार बाल सहायता योजना के अंतर्गत एपीएल और बीपीएल का कोई अंतर नहीं रखा गया। Corona की वजह से माता पिता की मौत के बाद अनाथ हुए सभी बच्चों (Children Orphaned by Covid) को यह सहायता मिलेगी।

( Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 ) दोस्तों अब सवाल आता है कि इन बच्चों को सरकार रखेगी कहां?

तो दोस्तों विभाग के अनुसार राज्य में 55 बाल गृहों का संचालन किया जा रहा है। प्रत्येक ग्रह में 50 बच्चों की देखभाल की क्षमता है। इस प्रकार 25100 अनाथ बच्चों की रखने की क्षमता इन गृहों में है। तथा वर्तमान में 900 बच्चे इन गृहों में रह रहे हैं। दोस्तों इंद्रियों में वैसे बच्चों को रखा जाता है जिन की देखभाल के लिए उनके कोई सगे संबंधी या परिजन नहीं होते हैं। जिससे बच्चों की काफी सहायता हो जाती है। यह सरकार के द्वारा उठाया गया एक अहम पहल है जो काफी अच्छा है और सरकार के इस पहल को हम सबको प्रोत्साहित करना चाहिए।




दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट Bihar Bal Sahayata Yojana 2021 कैसी लगी हमें जरूर बताएं। अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगती है तो इसे शेयर जरूर करें और आपके मन में अगर किसी प्रकार का कोई भी सवाल है तो आप हमसे पूछ सकते हैं हम आपको जरूर बताएंगे। यह हमारा काम है और हमें आपको बताने में खुशी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *